• ऑनलाइन कौर्स : ए लाइफ ऑफ़ हैप्पीनेस एंड फुलफिल्मेंट

आनंद रिसर्च प्रोजेक्‍ट के लिए सामान्य दिशानिर्देश

1. परिचय :

यद्यपि आनंद सभी ढूँढ रहे हैं , इसे समझने के लिए विभिन्न डोमेन से जुड़े अध्ययनों की आवश्यकता होगी जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से आनंद को प्रभावित करते हैं। राज्‍य आनंद संस्‍थान ऐसे महत्वपूर्ण शोध की तलाश में है जो न केवल खुशहाली के संकेतकों की खोज करेगा, बल्कि प्रभावी मूल्यांकन कर आनंद की वृद्धि में सहायता करेगा और इस तरह निति निर्धारण में हमारी सहायता करेगा। आनंद और वेल बिईंग के विभिन्न पहलुओं की गहरी समझ विकसित करने के लिए ये अध्ययन प्रकृति में बहुआयामी और अंतःविषय हो सकते हैं। राज्य आनंद संसथान द्वारा व्यक्तिगत शोधकर्ताओं/संगठनों से आनंद एवं सम्बंधित विषयो पर बहुआयामी और अंतःविषय शोध/अध्यन हेतु आवेदन आमंत्रित किए जा रहे हैं।

2. पात्रता :

  • भारत का कोई भी नागरिक जिसकी आयु न्यूनतम 30 वर्ष हो।
  • मान्‍यता प्राप्‍त विश्‍वविद्यालय, महाविद्यालय, शिक्षण संस्था, शोध संस्‍थान एवं अन्‍य ऐसी संस्‍था जिसे विभाग उपयुक्‍त समझे।
व्‍‍यक्तिगत आवेदक के लिए
  • व्‍यक्तिगत आवेदक के पास कम से कम 10 वर्ष का कार्य अनुभव अनिवार्य हैं एवं आनंद एवं खुशहाली के विषय पर कार्य करने, शोध करने या लेखन की समझ / अनुभव रखता हो।
  • अथवा
  • आवेदक पीएचडी धारक हो एवं शोध कार्य करने का समुचित अनुभव हो। राष्‍ट्रीय या अंर्तराष्‍ट्रीय संस्‍था के साथ कार्य करने का अनुभव वांछनीय होगा।
  • व्‍यक्तिगत आवेदक का किसी भी विश्वविद्यालय, महाविद्यालय, शिक्षण संस्थान या शोध संस्‍थान या अन्‍य उपयुक्‍त संस्‍था से संलग्‍न होना आवश्‍यक होगा।
संस्थागत आवेदक के लिए
  • यदि आवेदक संस्था है, तो उनके पास अनुसंधान करने के लिए आवश्यक संसाधन होना चाहिए और अध्ययन करने वाले संस्‍था के शिक्षकों के नाम और पदनाम देना होगा।
  • प्रोजेक्‍ट निदेशक / टीम लीडर का नाम, शैक्षणिक योग्यता एवं अनुभव आवेदन के साथ उल्‍लेखित करना होगा।
  • यह अपेक्षा की जाती है कि प्रोजेक्‍ट निदेशक / टीम लीडर के पास उपरोक्त व्यक्तिगत आवेदक के लिए आवश्‍यक समान योग्यता होनी चाहिए।

3. अवधि एवं अनुदान राशि :

  • प्रोजेक्‍ट अवधि अधिकतम 3 वर्ष होगी।
  • प्रत्‍येक अनुसंधान प्रोजेक्‍ट के लिए अधिकतम रूपये 10 लाख राशि की सहायता प्रदान की जा सकेगी।
  • अनुदान सहायता अनुसंधान प्रस्‍ताव के स्‍वरूप के आधार पर निर्धारित लक्ष्‍य (milestone) की पूर्ति पर की जा सकेगी।
  • अनुदान प्रदान करने का स्‍वरूप प्रोजेक्‍ट स्‍वीकृति के समय परिभाषित किया जायेगा।

4. आवेदन के लिए प्रक्रिया :

  • आवेदन केवल राज्‍य आनंद संस्थान की वेबसाइट के माध्यम से आमंत्रित किए जाएंगे और विज्ञापन में उल्लेखित समय सीमा से पहले प्राप्त हो जाना चाहिए।
  • व्यक्तिगत आवेदक के विस्तृत सीवी और संस्थागत आवेदक में सभी टीम के सदस्यों के सीवी के साथ सभी पात्रता दस्तावेज का अटैचमेंट ऑनलाइन आवेदन में संलग्न होना चाहिए।
    * सी.वी. गाइडलाइन्स
  • एक विस्तृत अनुसंधान प्रस्ताव और सारसंक्षेप (क्रमशः 3000 और 500 शब्द) आवेदन पत्र के साथ ऑनलाइन जमा करना होगा। यह अंग्रेजी / हिंदी में हो सकता हैं।
    * प्रोजेक्ट प्रपोजल बनाने हेतु विस्तृत गाइडलाइन्स

5. पुरस्कार के लिए प्रक्रिया :

  • आनंद अनुसंधान प्रोजेक्‍ट के लिए प्राप्‍त आवेदन पत्रों का परीक्षण राज्य आनंद संस्‍थान द्वारा गठित समिति द्वारा किया जायेगा।
  • समिति प्रस्‍तावित शोध से प्रदेश में आनंद का वातावरण बनाने, आनंद के विषय की समझ विकसित करने में सहायक होने की संभावना पर विचार करेगी।
  • अधिकतम 5 प्रोजेक्‍ट को एक वर्ष में स्वीकृत और स्वीकार किया जाएगा।
  • समिति का निर्णय अंतिम होगा।
  • समिति बिना कोई कारण दिये किसी भी आवेदन को निरस्‍त कर सकती है।

 
     

अपने आवेदन की जानकारी प्राप्त करें