आनंद क्लब सम्मेलन में सभी ने सुनाए अपने-अपने अनुभव

प्रेषक का नाम :- आनंदम सहयोगी लखन लाल असाटी
स्‍थल :- Chhatarpur

आनंद क्लब सम्मेलन में सभी ने सुनाए अपने-अपने अनुभव
आनंद तो पनीर की सब्जी से अधिक भटे के भरते में आता है
छतरपुर। कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में आनंद विभाग में पंजीकृत जिले के सभी 15 आनंद क्लब के पदाधिकारियों का सम्मेलन राज्य आनंद संस्थान के हिमांशु भारत एवं जितेश श्रीवास्तव की उपस्थिति में संपन्न हुआ। सम्मेलन को अपर कलेक्टर डीके मौर्य ने भी संबोधित किया। नेहरु युवा केंद्र के अरविंद यादव, आनंदम सहयोगी लखन लाल असाटी सहित, डीडी तिवारी, सुभाष अग्रवाल, संजय शर्मा, रामकृपाल यादव, प्रदीप सेन, अंकित अग्रवाल, राहुल दुबे बिजावर, अनुपम गुप्ता खजुराहो, केएन सोमन, मनोज जैन, जगदीश प्रसाद भट्ट, शंकर सोनी, विनोद कुमार पुष्पद, पंकज शर्मा, आशीष खरे, विपिन अवस्थी, नीरज दीक्षित, पुष्पेंद्र ङ्क्षसह, कपिल खरे, प्राची चतुर्वेदी, राकेश ङ्क्षसह, शीतल साहू, गजेंद्र ङ्क्षसह परमार, जीतेन्द्र प्रजापति, डॉ. डीडी शुक्ला आदि ने भी अपने-अपने विचार रखे।
अपर कलेक्टर श्री मौर्य ने कहा कि व्यक्ति में आनंद तो उसके अपने अंदर है। जिसे खोजते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि जो आनंद आपको पनीर की सब्जी खाने से न आए वह आनंद आपको भटे का भरता खाने में आ जाए। श्री मौर्य ने कहा कि छतरपुर का आनंद क्लब लोगों का आनंद बढ़ाने के लिए जो कार्य कर रहे हैं वह सराहनीय है। शासकीय योजनाओं में भी उन सभी का स्वागत है। हिमांशु भारत ने कहा कि तनाव का कारण व्यक्ति का दोहरा चरित्र है और यह दोहरा चरित्र उसे भगवान से भी दूर ले जाता है। जितेश श्रीवास्तव ने सभी का अल्पविराम कराते हुए कहा कि कुछ समय शांत रहकर विचार करें कि हमारे जीवन की कोई एक परेशानी या तकलीफ क्या है और उसका समाधान क्या हो सकता है। अल्पविराम में यह भी कहा गया कि आनंद क्लब के पदाधिकारी ऐसे कार्यों के बारे में सोचें जिससे समाज के आनंद के साथ-साथ उनका खुद का भी आनंद बढ़े।
 
 


फोटो :-