• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है, आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2018 तक बढ़ा दी गई है |

आनन्द विभाग की पहल पर सहारिया आदिवासी गाँव मढ़ा में लगा दस्तावेज़ बनाने हेतु लगा विशेष शिविर आनंद विभाग ने मढ़ा गाँव को लिया गोद

प्रेषक का नाम :- शिवराज सिंह एडीएम / डॉ सत्यप्रकाश शर्मा, आनन्दम सहयोगी,
स्‍थल :- Gwalior
17 Aug, 2017

नए वस्त्र मिले तो खिल उठे सहरिया बच्चों के चेहरे 
 
आनन्द विभाग की पहल पर सहारिया आदिवासी  गाँव मढ़ा में लगा दस्तावेज़ बनाने हेतु लगा विशेष शिविर 
 
आनंद विभाग ने मढ़ा गाँव को लिया गोद 
शिवराज सिंह एडीएम / डॉ सत्यप्रकाश शर्मा, आनन्दम सहयोगी, ग्वालियर
 
 ग्वालियर / हर बच्चे के मन में त्यौहार पर नए और रंगीन वस्त्र पहनने की लालसा होती है। मगर परिवार के कमजोर आर्थिक हालात की वजह से कुछ बच्चों की यह अभिलाषा मन में ही दबी रह जाती है। ऐसे ही अभावग्रस्त परिवारों के बच्चों को जब पवित्र रक्षाबंधन त्यौहार से तीन दिन पहले नये आकर्षक एवं रंगीन कपड़े पहनने को मिल जाएँ तो उनकी खुशी का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। यहाँ बात हो रही है आदिवासी गाँव मढ़ा की। इस गाँव में निवासरत प्रदेश की सबसे पिछड़ी जनजातियों में शुमार सहरिया परिवारों के 200 बच्चों को आनंद विभाग ग्वालियर की पहल पर शुक्रवार ४ अगस्त को नए वस्त्र वितरित किए गए। मढ़ा गाँव अब ग्वालियर नगर निगम की सीमा में शामिल हो चुका है। 
आनंद विभाग की पहल पर जिला प्रशासन एवं नगर निगम के सहयोग से सहरिया परिवारों की समस्याओं के निराकरण के लिये विशेष शिविर भी लगाया गया। अपर कलेक्टर एवं नोडल अधिकारी आनंद विभाग श्री शिवराज सिंह की मौजूदगी में लगाए गए इस शिविर में खासतौर पर सहरिया परिवारों के बच्चों के जाति प्रमाण-पत्र, आधारकार्ड, राशनकार्ड व समग्र आईडी मौके पर ही तैयार की गई। अन्य आवेदन जैसे ब्रद्धा व विधवा पेन्शन, ग़रीबी रेखा, मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण एवं स्वरोज़गार योजनाओं के भी आवेदनों का मौक़े पर ही निराकरण किया गया इसमें आनंदकों ने भी आदिवासियों का सहयोग किया । कुल १३५ आवेदनों का निराकरण किया गया ।
अपर कलेक्टर श्री शिवराज सिंह ने सहरिया परिवारों को भरोसा दिलाया कि उनकी पेयजल समस्या का भी जल्द ही स्थायी समाधान किया जायेगा। फिलहाल स्थानीय निजी बोर एवं टैंकर के जरिए यहाँ पेयजल मुहैया कराया जायेगा। श्री वर्मा ने इस अवसर पर सहरिया परिवारों का आहवान किया कि वे अपने बच्चों को पढ़ने स्कूल जरूर भेजें। शिक्षा के बिना जीवन अधूरा है और शिक्षा में ही सारी समस्याओं का समाधान है। उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा सहरिया परिवारों के लिये संचालित विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। आनन्दम सहयोगी डॉ सत्यप्रकाश शर्मा ने अपने उदबोधन में उपस्थित विभिन्न विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों से आह्वान किया कि अपनी अंतरात्मा कि आवाज़ सुनकर इस गाँव की सेवा करें ।
मालूम हो मढ़ा गाँव को जिले के आनंद विभाग ने गोद लेकर इसे “आनंद गाँव” बनाने का संकल्प लिया है। पिछले रविवार को भी आनंद विभाग का दल इस गाँव में पहुँचा था और सहरिया परिवारों के बच्चों को खिलौने मुहैया कराए थे। आनन्द विभाग की टीम तबतक इस गाँव गोद लिए रहेगी जबतक इसकी आधारभूत सुविधाओं से पूर्ण नहीं हो जाता । 
शुक्रवार को मढ़ा गाँव में लगाए गए शिविर में अपर आयुक्त नगर निगम श्री रिंकेश वैश्य, एसडीएम श्री विजय राज, जिला शिक्षा अधिकारी श्री विकास जोशी, एचपीसीएल रायरू के डिपो प्रबंधक श्री यशपाल अनेजा सहित अन्य संबंधित अधिकारी व आनंदक मौजूद थे।


फोटो :-

         

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1
Document - 2
Document - 3