• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है

आनन्दमय जीवन जीने के लिये ग्वालियर में आनन्द क्लबों के सदस्यों द्वारा किया जा रहा अल्पविराम का अभ्यास

प्रेषक का नाम :- शिवराज सिंह एडीएम/ डॉ सत्यप्रकाश शर्मा, आनन्दम सहयोगी
स्‍थल :- Gwalior
30 Nov, -0001

आनन्दमय जीवन जीने के लिये ग्वालियर में आनन्द क्लबों के सदस्यों द्वारा किया जा रहा अल्पविराम का अभ्यास शिवराज सिंह एडीएम/ डॉ सत्यप्रकाश शर्मा, आनन्दम सहयोगी ग्वालियर / मध्यप्रदेश देश का पहला प्रदेश है जहॉं के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह ने प्रदेश के लोगों की बाह्य सकुशलता के साथ-साथ आन्तरिक सकुशलता की चिंता की है और इसके लिये पिछले बर्ष सितम्बर माह में आनन्द विभाग का गठन किया है । राज्य आनन्द संस्थान की अभिनव पहल 'अल्पविराम', जिसके सतत अभ्यास से लोग अपने जीवन में ख़ुशियाँ ला रहें हैं । ख़ुशियाँ समाज के हर व्यक्ति तक पहुँचें इसके लिये संस्थान द्वारा प्रदेश में आनन्द क्लबों का गठन किया जा रहा है । ग्वालियर में अभी तक कुल १३ आनन्द क्लब गठित किये गये हैं जिनमें १२ पंजीकृत व १ प्रावधिक रूप से पंजीकृत हुये हैं । उक्त आनन्द क्लबों के सदस्य हर रविवार को सुबह अल्पविराम का अभ्यास करते हैं जिससे उनके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आ रहे हैं तथा जीवन आनन्दमय होने की ओर अग्रसर है । मदद, परोपकार आदि की भावना के विकास तथा समाज व शासकीय कार्यालयों के सफल संचालन के लिये विभिन्न बिषयों पर अल्पविराम का अभ्यास जिले के आनन्दम सहयोगी डॉ सत्यप्रकाश शर्मा द्वारा जिले के विभिन्न कार्यालयों के साथ-साथ आनन्द क्लबों के सदस्यों को भी कराया जा रहा है जिनमें शासकीय व अशासकीय दोनों लोग सम्मिलित हैं । क्लबों के सदस्यों के अल्पविराम कार्यक्रम में जिले के एडीएम व आनन्द विभाग के नोडल अधिकारी श्री शिवराज सिंह विशेष रूप से उपस्थित रहते हैं । जिले में गठित आनन्द क्लबों के सदस्य खिलौने, कपड़े, ज्ञान, समय, दीन दुखियों की सेवा, ज़रूरतमंद छात्रों को पढ़ाकर, ज़रूरतमंदों की मदद, पक्षियों को दाना-पानी देकर, पर्यावरण संरक्षण के लिये पौधारोपण व उनका संरक्षण तथा अन्य सामग्री लोगों को देकर आनन्द की अनुभूति कर रहे हैं । अल्पविराम के अभ्यास इस 'देने का आनन्द' की भावना का और अधिक विकास हो रहा है ।


फोटो :-