• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है, आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 नवम्बर 2018 |

"मेरा मन करता है ठेला लेकर खिलौने माँगने निकल जॉंऊ, उन बच्चों को खिलौने दूँ, जिन्हें उपलब्ध नहीं हैं और उनके चेहरे पर खुशी देख सकूँ" मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह की यही भावना को दृष्टिगत रखते हुये ग्वालियर के आनन्दकों ने शुरू किये खिलौने बाँटना

प्रेषक का नाम :- शिवराज सिंह, एडीएम / डॉ सत्यप्रकाश शर्मा, आनन्दम सहयोगी, ग्वालियर
स्‍थल :- Gwalior
28 Jun, 2017

"मेरा मन करता है ठेला लेकर खिलौने माँगने निकल जॉंऊ, उन बच्चों को खिलौने दूँ, जिन्हें उपलब्ध नहीं हैं और उनके चेहरे पर खुशी देख सकूँ" मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह की यही भावना को दृष्टिगत रखते हुये ग्वालियर के आनन्दकों ने शुरू किये खिलौने बाँटना शिवराज सिंह एडीएम / डॉ सत्यप्रकाश शर्मा, आनन्दम सहयोगी, ग्वालियर ग्वालियर/ प्रदेश के हर बच्चे, बुज़ुर्ग व नौजवान के चेहरे पर ख़ुशी का भाव हो, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की इस भावना पर कार्य करने के लिये प्रदेश में आनन्द विभाग का गठन किया गया है । जब राज्य आनन्द संस्थान व इण्डियन इन्स्टीट्यूट अॉफ टेक्नोलोजी खड़गपुर तथा इण्डियन स्कूल अॉफ बिजनेस हैदराबाद के बीच एमओयू किया जा रहा था मुख्यमंत्री जी ने पूरे प्रदेश की आनन्द विभाग की टीम को सम्बोधित करते हये कहा था, "मेरा मन करता है ठेला लेकर खिलौने माँगने निकल जॉंऊ, उन बच्चों को खिलौने दूँ, जिन्हें उपलब्ध नहीं हैं और उनके चेहरे पर खुशी देख सकूँ" इसी भाव को लेकर ग्वालियर के आनन्दकों ने विगत दिनों ग़रीब बस्ती में पॉंच दिवसीय कैम्प लगाकर खिलौने बितरित किये । कैम्प का उदघाटन एडीएम शिवराज सिंह के मुख्य आथित्य व आनन्दम सहयोगी डॉ सत्यप्रकाश शर्मा की अध्यक्षता में किया गया तथा समापन स्पेशल एरिया डेव्लपमेंट अथोरिटी के चेयरमेन श्री राकेश जादौन ने खिलौने बाँट कर किया । आनन्दक श्री विक्रम राणा व श्री देवेन्द्र शिवहरे ने पहल करते हुये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की इस भावना को साकार करने के लिये गरीब बस्ती खल्लासी पुरा में काली माता मंदिर पर पॉंच दिवसीय खिलौने बाँटने के लिये कैम्प, २२ से २६ मई तक आयोजित किया गया जिसमें बच्चों को खिलौने बॉंटे गये । कैम्प में बस्ती के लोगों को ख़ुशहाल जीवन जीने के लिये 'अल्पविराम' की जानकारी व इसके अभ्यास को अपने जीवन में अपनाने की सलाह दी गई । कैम्प हर रोज़ आनन्दक साईकिल द्वारा जाते थे और बच्चों को खिलौने बॉंटते थे । कैम्प के अन्तिम दिन सभी बच्चों को आनन्दकों ने डी डी मॉल घुमाया व मेक्डॉनाल्ड में स्नेक्स व आईसक्रीम खिलवाई ।


फोटो :-

         

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1
Document - 2