युवा आनंदक फैलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित - पंजीयन 11 से 30 सितम्बर तक        आनंद उत्‍सव 2023 फोटो एवं वीडियो प्रतियोगिता परिणाम       • भारतीय लोकतंत्र का जश्न मनाने के लिए ईसीआई द्वारा "मैं भारत हूं" गीत • आनंद उत्सव की सांख्यिकी • ऑनलाइन कौर्स : ए लाइफ ऑफ़ हैप्पीनेस एंड फुलफिल्मेंट

सुखी रहने परिस्थिति नहीं अंतर्मन की स्थिति बदलनी है : राज्य आनंद संस्थान द्वारा पांच दिवसीय अल्पविराम कार्यक्रम शुरू  

प्रेषक का नाम :- लखनलाल असाटी जिला संपर्क व्यक्ति छतरपुर
स्‍थल :- Chhatarpur
20 Sep, 2022

छतरपुर! राज्य आनंद संस्थान द्वारा पांच दिवसीय अल्पविराम कार्यक्रम सोमवार से शुरू किया गया है जिसका प्रशिक्षण समन्वयक लखनलाल असाटी को बनाया गया है, शिविर में 60 प्रतिभागी सम्मिलित हो रहे हैं,प्रशिक्षण का शुभारंभ करते हुए संस्थान के सीईओ अखिलेश कुमार अर्गल ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका की है परंतु हैप्पीनेस के मामले में वह 19वें नंबर पर है जबकि मामूली सी अर्थव्यवस्था और छोटा सा देश फिनलैंड  खुशहाली के मामले में लगातार नंबर वन बना हुआ है, संपन्नता और सफलता का हैप्पीनेस से सीधा संबंध नहीं हैआनंदम सहयोगी लखनलाल असाटी ने कहा कि खुश रहने के लिए बाहरी परिस्थितियों को ठीक करने की जगह आंतरिक परिस्थितियों पर काम करना बेहतर है क्योंकि व्यक्ति के खुशहाली स्तर में बाहरी परिस्थितियों का मात्र 10 फ़ीसदी रोल है, प्रतिभागियों ने भी अपने-अपने जीवन के अनुभवों के आधार पर बताया कि उनकी खुशी कब और कैसे बड़ी, प्रशिक्षण को वंदना श्रीवास्तव डॉ राम सहाय यादव संतोष कुमार तिवारी बालकृष्ण शर्मा और प्रदीप महतो ने भी संबोधित किया प्रतिभागियों से कहा गया कि वह है कुछ समय शांत रहकर खुद से बातचीत करें और अंदर की आवाज को सुनने का अभ्यास करें    


फोटो :-

   

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1
Document - 2