छतरपुर।करुणापूर्ण व्यवहार करेंगे अधिकारी।।

प्रेषक का नाम :- लखन लाल असाटी आनंदम सहयोगी जिला छतरपुर।
स्‍थल :- Chhatarpur

अधिकारी इस हफ्ते करेंगे करुणा के नए कार्य अल्प विराम में करुणा पूर्वक व्यवहार पर हुआ आत्म मंथन छतरपुर। जिले के अधिकारी इस हफ्ते नि:स्वार्थ भाव से करुणा के कम से कम तीन कार्य करेंगे। कलेक्टर रमेश भण्डारी, जिला पंचायत सीईओ हर्ष दीक्षित और अपर कलेक्टर दिनेश कुमार मौर्य की उपस्थिति में आनंदम सहयोगी लखनलाल असाटी ने करुणा भाव पर सभी से अल्पविराम लेने को कहा था। अधिकारियों ने मौन रहकर अल्पविराम लिया और अपने अंत:करण के भावों को अभिव्यक्त करते हुए तय किया कि वह इस हफ्ते कम से कम तीन ऐसे कार्य जरूर करेंगे जो दूसरों का दुख दूर करने के लिए होंगे। लखनलाल असाटी ने प्रार्थना गीत के बाद अल्प विराम की शुरूआत कराते हुए कहा कि भारत के आदि ग्रंथ रामायण की रचना महर्षि बाल्मीकि ने करुणा के कारण ही की थी। तमसा नदी के तट पर क्रोंच पक्षी के जोड़े में से एक को बहेलिये द्वारा मार दिए जाने पर जीवित पक्षी अपने साथी के लिए करुण क्रंदन कर रहा था। जिसे देखकर महर्षि का अंत:करण करुणा से भर गया। रामचरित मानस में भी सीताजी ने अपने स्वामी भगवान राम को करुणानिधान के रूप में चाहा है। अल्प विराम में करुणापूर्वक व्यवहार पर आधारित एक छोटी सी प्रेरणादायक फिल्म भी दिखाई गई। ई गर्वनेंस के जिला प्रबंधक राहुल तिवारी ने कहा कि फिल्म से प्रेरणा मिलती है कि छोटी-छोटी गलतियों पर दूसरे को क्षमा तो करना ही है पर क्षमा करते वक्त हमारा व्यवहार अत्यंत सहानुभूतिपूर्वक भी होना चाहिए। जल संसाधन के ईई इन्द्रभूषण नायक ने कहा कि अगर हम किसी को क्षमा करेंगे तो वह व्यक्ति इससे प्रेरणा लेकर भविष्य में दूसरों के साथ भी सहानुभूतिपूर्वक व्यवहार करेगा। ईई आरईएस अरूण कुमार दुबे ने बताया कि छोटी-छोटी बातों पर क्रोध नहीं होना चाहिए। सहायक संचालक शिक्षा जेएन चतुर्वेदी ने नौगांव का एक उदाहरण देते हुए बताया कि उनके घर एक असहाय, अनाथ बूढ़ी महिला यदा-कदा आकर भोजन कर जाती थी। एक जनवरी को उनकी माता का निधन हो गया था। उसके कुछ दिनों बाद वह महिला उनके घर आयी और इस दुखद घटना की जानकारी पाकर उसे शोक मग्र देखकर चतुर्वेदी परिवार अवाक रह गया, कि उसके मन में कितनी करुणा भरी हुई है। डीपीसी हरिशंकर त्रिपाठी ने कहा कि संसार में सबकी उपयोगिता है इसलिए पशु पक्षियों पर भी करुणा करनी चाहिए। अपर कलेक्टर दिनेश कुमार मौर्य द्वारा गर्मी में पक्षियों के पीने के पानी के लिए सकोरों की व्यवस्था का सभी ने स्वागत किया।


फोटो :-

   

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1