युवा आनंदक फैलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित - पंजीयन 11 से 30 सितम्बर तक        आनंद उत्‍सव 2023 फोटो एवं वीडियो प्रतियोगिता परिणाम       • भारतीय लोकतंत्र का जश्न मनाने के लिए ईसीआई द्वारा "मैं भारत हूं" गीत • आनंद उत्सव की सांख्यिकी • ऑनलाइन कौर्स : ए लाइफ ऑफ़ हैप्पीनेस एंड फुलफिल्मेंट

अल्पविराम- स्वयं से संपर्क,सुधार और दिशा ने सुझाई अवसाद से आनंद की राह....

प्रेषक का नाम :- विजय मेवाड़ा जिला संपर्क व्यक्ति, इंदौर
स्‍थल :- Indore
28 Dec, 2021

राज्य आनंद संस्थान अध्यात्म विभाग द्वारा आयोजित पांच दिवसीय ऑनलाइन अल्पविराम कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अखिलेश् अर्गल जी के प्रेरक उद्बोधन से प्रारंभ हुआ दिनांक 20 से 24 दिसंबर2020 आयोजित इस कार्यक्रम में प्रथम दिवस संजय श्रीवास्तव जी द्वारा आनंद की ओर से सत्र लिया।

द्वितीय दिवस श्री विजय मेवाड़ा ने जीवन का लेखा जोखा सत्र द्वारा लोगों के जीवन रूपी पन्नों को खंगालने का अभ्यास कराया तृतीय दिवस हमारे रिश्ते के माध्यम से नीलम विश्वकर्मा जीने रिश्ते के महत्व का आभास कराया चतुर्थ दिवस संजय गुप्ता जी द्वारा संपर्क,सुधार, दिशा, कि और प्रतिभागियों का ध्यानाकर्षण किया श्रीमती प्रेमलता उपाध्याय द्वारा फ्रीडम ग्लास के माध्यम से स्वयं का उदाहरण देकर जीवन में कैसे अच्छाइयों को खोजा जा सकता है इस पर बल दिया पंचम दिवस शांति की शक्ति को प्रतिभागियों ने महसूस करते हुए अल्पविराम अभ्यास के अनुभव साझा किये। जो स्वयं में आए परिवर्तन दीप्त करते हैं,ओमप्रकाश विश्वकर्मा द्वारा बताया गया कि उनकी पत्नी बेटी को लेकर मायके चली गई हैं, परिवार में वह आज तक किसी से दिल की बात नहीं कर पाये मन की कुंठा को लेकर कुछ समय पूर्व उन्होंने आत्महत्या करने की भी सोची,पर अल्पविराम कार्यक्रम में कहा कि वे स्वयं पहल करते हुए बच्चों से माफी मांगने जाएंगे। सत्र के दौरान प्रतिभागियों की आंखें नम हो गई।अणिमा आचार्य जी द्वारा बताया गया कि सुबह उनका पति के साथ झगड़ा हुआ था, अल्पविराम के दौरान क्षमा करने और क्षमा मांगने की बात हुई उन्होंने उसी समय पति को msg कर माफी मांगी उनके पति ने भी तुरंत माफ करते हुए स्नेह संदेह भेजा।

आनंदक रहीमा परवीन द्वारा बताया कि सत्र के बाद वह अपने बड़े पापा की बेटी को sorry बोलेगी, जिनसे वह नाराज हैं।रामकेश चौबे जी की पत्नी व बहू मैं अनबन रहती हैं, वे सुलह का प्रयास करेंगे।नीता विश्वकर्मा की सहकर्मी के साथ अनबन हैं वे इसे खत्म करना चाहेगी।पुष्पेंद्र सिसोदिया के द्वारा अपने भाई बहिन से रिश्ते में खटास हैं और वे ठीक करने के लिये आतुर हैं। रवीना टंडिया मम्मी की बातो को अनसुना करती थी मनमानी करती थी अब मुझे सुधार करना है।


फोटो :-

      

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1