आनंद उत्‍सव 2020 फोटो एवं वीडियो प्रतियोगिता परिणाम       • ऑनलाइन कौर्स : ए लाइफ ऑफ़ हैप्पीनेस एंड फुलफिल्मेंट

 बचपन से लेकर अब तक चोरी झूठ भ्रष्टाचार अपवित्र सोच और घृणा के लिए ईश्वर से मांगी लिखित माफी

प्रेषक का नाम :- मास्टर ट्रेनर एवं अतिरिक्त नोडल अधिकारी लखन लाल असाटी छतरपुर
स्‍थल :- Chhatarpur
20 Jun, 2020

छतरपुर बचपन से लेकर अब तक चोरी झूठ भ्रष्टाचार अपवित्र सोच और घृणा के लिए ईश्वर से मांगी लिखित माफी**ऑनलाइन अल्पविराम के अंतिम दिन लिया ढाई घंटे का पावर ऑफ साइलेंस**छतरपुर के अनेक प्रतिभागियों ने लिया हिस्सा*

छतरपुर 14 जून 2020, राज्य आनंद संस्थान द्वारा आयोजित ऑनलाइन अल्पविराम के छह दिवसीय सत्र के समापन दिवस पर पावर आफ साइलेंस के तहत प्रतिभागियों ने सुबह 7 बजे से ढाई घंटे का पावर ऑफ साइलेंस लिया इस दौरान उन्होंने अपने जीवन का महानतम पत्र भगवान को लिख कर बचपन से लेकर अब तक की गई चोरी,झूठ,भ्रष्टाचार,अपवित्र सोच,जलन,घृणा और बदले की भावना के लिए ईश्वर से क्षमा याचना की, कार्यक्रम में छतरपुर जिले के अनेक प्रतिभागी सम्मिलित हुएजिला संपर्क व्यक्ति लखनलाल असाटी,आनंदम सहयोगी,आशा असाटी के साथ दमोह से रमेश व्यास,उषा व्यास कटनी से राजेंद्र असाटी, देवास से समीरा नईम,जबलपुर से दीप्ति ठाकुर,श्येपुर से राजा खान और भोपाल से मुकेश करूवा, प्रदीप महतों के साथ 6 दिनों तक अल्पविराम के विभिन्न विषयों पर सत्र संचालित किए*अल्पविराम खुद से जुड़ने की ताकत देता है*राज्य आनंद संस्थान के डायरेक्टर इंद्रपाल सिंह ने कहा कि अल्पविराम खुद से जुड़ने की ताकत देता है जीवन में इसे जारी रखिएछतरपुर जिला न्यायालय में वकील कृष्ण प्रताप मिश्रा ने कहा कि अल्पविराम ने उन्हें अपने जीवन में नई दिशा प्रदान की है कैंडी पटवारी सोनल अग्रवाल ने कहा कि अहंकार जोड़ने और तोड़ने दोनों का काम करता है मुझे गुस्से पर काबू करने की ताकत मिली क्योंकि कई बार अपने आप पर गुस्सा उतारती थी

रामाजी नगर निवासी लायनेस अनीता अग्रवाल ने कहा कि अल्पविराम से उन्हें जीवन में वह सब लोग याद आए जिन्होंने उनकी और उनके परिवार की प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से मदद की वह उन सब के प्रति सार्वजनिक रूप से कृतज्ञता ज्ञापित करती हैं अर्चना दलाल दमोह ने कहा कि उनके जीवन का भटकाव घटा है ऊर्जा बड़ी है छतरपुर से ही ऋषिकेश पटेल, मनोज श्रीवास,रवि सिंह परिहार, शीतल श्रीवास, सुरेंद्र सिंह परिहार और आराधना दुबे ने भी अपने विचार साझा किए*क्रोध पर नियंत्रण चाहते हैं लोग*अल्पविराम ले रहे अधिकांश प्रतिभागियों ने कहा कि उनके अंदर क्रोध भरा हुआ है जिस पर वह नियंत्रण चाहते हैं अभय सिंह,अदिति लोखंडे, अनूप कुमार श्रीवास्तव, आरती गर्ग, रेनू मिश्रा,सावित्री महंत, डॉ प्रवीण जोशी,अभय सिंह, ममता कटारिया, राम जाट, सौरभ गुप्ता, शशांक जैन, प्रभा बैरागी आदि ने भी शांत समय से उन्हें मिली प्रेरणा को साझा किया


फोटो :-

   

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1