आनंद उत्‍सव 2020 फोटो एवं वीडियो प्रतियोगिता परिणाम        List of Eligible Candidates from previous recruitment advertisement        List of Non-Eligible Candidates from previous recruitment advertisement       • ऑनलाइन कौर्स : ए लाइफ ऑफ़ हैप्पीनेस एंड फुलफिल्मेंट

नौगांव में ब्लॉक आनंदक सम्मेलन संपन्न 

प्रेषक का नाम :- आनंदम सहयोगी मास्टर ट्रेनर लखनलाल असाटी
स्‍थल :- Chhatarpur
23 Nov, 2019

छतरपुर,   राज्य आनंद संस्थान द्वारा जिले के नौगांव में ब्लॉक आनंदक सम्मेलन शुक्रवार को क्षेत्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज प्रशिक्षण केंद्र पर संपन्न हुआ। जनपद क्षेत्र की प्रत्येक ग्राम पंचायत से एक-एक महिला आनंदक इस सम्मेलन में सम्मिलित हुई। शांत समय लेने के बाद एक महिला ने कहा कि दूसरों का वैभव देखकर उसे जलन होती है, पर अब शांत समय लेकर वह खुद में सुधार करेंगी। एक अन्य महिला ने कहा कि उसे अपनी दादी से झगड़ा करने का आज पछतावा हो रहा है। एक अन्य युवती ने कहा कि वह तीन बहने हैं। घर में सबसे बड़ी होने के कारण उसके माता-पिता शादी करना चाहते हैं, पर वह पढ़ना चाहती है, जिस कारण घर में तनाव रहता है, पर शांत समय के साथ अब हम इसे दूर करेंगे। मास्टर ट्रेनर अध्यात्म लखनलाल असाटी, प्रदीप सेन, आनंदम सहयोगी आशा असाटी, नीलम पांडेय, रामकृपाल यादव, चंद्रभान रावत, के.एन. सोमन, मंगल ग्राम सहयोगी मिजाजी लाल कुशवाहा, दीपक श्रीवास, शीतल श्रीवास ने संयुक्त रूप से अल्प विराम सत्र के संचालन में सहयोग किया।

कलेक्टर मोहित बुंदस एवं जिला पंचायत सीईओ हिमांशु चंद्र के मार्गदर्शन में संपन्न ब्लाक आनंदक सम्मेलन में सम्मिलित महिला प्रतिभागियों ने अपने जीवन के आनंद और उसके घटने और बढ़ने के अनुभवों को साझा किया। महिलाओं ने यह भी साझा किया कि उनकी मदद किस किसने की और उन्होंने किस किस की मदद की। किस-किस को दुख दिया और किस-किस ने उन्हें दुख दिया। इन प्रश्नों पर भी शांत समय लिया गया। फैमिली ग्रुप के माध्यम से प्रतिभागियों ने अपने अंतरात्मा के विचार साझा किए और बताया कि उन्हें किन बातों का पछतावा है, किन से क्षमा मांगनी है और किन को क्षमा करना है। गुब्बारे फोड़ने की एक्टिविटी के माध्यम से संदेश दिया गया कि हमें अपना गुब्बारा अंतिम समय तक बचाए रखने के लिए दूसरे का गुब्बारा फोड़ने की कोई जरूरत नहीं थी। इसी तरह जीवन में खुद का आनंद बनाए रखने के लिए दूसरों का आनंद खत्म करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। एक दूसरे का सम्मान करके एक दूसरे की भावनाओं को स्वीकार करके हम अपने जीवन में बहुत अच्छे से आगे बढ़ सकते हैं।  


फोटो :-

   

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1