निर्णय सुविधा के आधार पर नहीं, अंतर्मन की आवाज से करने पर बनेंगे मंगल ग्राम : कमिश्नर श्री  मनोहर दुबे

प्रेषक का नाम :- आनंदम सहयोगी मास्टर ट्रेनर लखनलाल असाटी
स्‍थल :- Chhatarpur
11 Feb, 2019

सागर कमिश्नर श्री  मनोहर दुबे  ने मंगल ग्राम अवधारणा पर राज्य आनंद संस्थान के मास्टर ट्रेनर्स के साथ सागर में अपने आवास पर विचार विमर्श करते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति तभी पूर्णतः सुखी हो सकता है, जब वह अपने अंतर्मन की आवाज सुनकर जीवन में निर्णय लेकर व्यवहार करता है. पर आदमी अंतर्मन की बजाय सुविधा के आधार पर निर्णय कर रहा है और परिणाम स्वरूप व्यक्ति के खुद के जीवन में और समाज में तनाव के लक्षण दिख रहे हैं. व्यक्ति निरंतर अभ्यास के माध्यम से अंतर्मन की आवाज सुनकर निर्णय करने के लिए सक्षम बन सकता है. एक बार समाज में बहुसंख्यक व्यक्तियों में यह प्रवृत्ति बन जाने के बाद समाज के वातावरण में सकारात्मक परिवर्तन निश्चित रूप से आएगा, उपरोक्त धारणाओं को ध्यान में रखते हुए मंगल ग्राम की परिकल्पना को समाज के संपूर्ण विकास के लिए आकांक्षी नागरिकों के सहयोग से छतरपुर जिले के 11 ग्रामों में लागू किया जा रहा है।  कमिश्नर श्री दुबे ने राज्य आनंद संस्थान के राज्य समन्वयक हिमांशु भारत, लखनलाल असाटी छतरपुर, रमेश कुमार व्यास दमोह, यूबीएस गौर सागर के साथ 11 फरवरी से छतरपुर जिले की देरी ग्राम से शुरू हो रहे मंगल ग्राम कार्यक्रम की अवधारणा पर विस्तार से चर्चा की और इसकी सफलता के लिए अपनी शुभकामनाएं भी दीं।   उल्लेखनीय है कि छतरपुर जिले की 11 ग्राम पंचायतों को मंगल ग्राम परियोजना में शामिल किया जा रहा है और यह पूरा कार्यक्रम जनसहयोग से पूरा किया जाएगा, जिसमें छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी, डा. सुभाष चौबे, डा. राजेश अग्रवाल, डा. एमपीएन खरे, व्यवसाई राधेलाल असाटी आदि नागरिक मानस और आर्थिक सहयोग कर रहे हैं। मंगल ग्रामों में स्टेट मास्टर ट्रेनर प्रदीप महतों के साथ अल्पविराम से जुड़े छतरपुर जिले के आनंदम सहयोगी और आनंदक भी ग्रामीणों के साथ अल्पविराम में शामिल होंगे, जिनमें प्रदीप सेन, अनिल सोनी, योग गुरु रामकृपाल यादव, रिटायर्ड पीओ डूडा सुभाष अग्रवाल, रिटायर्ड जिला योजना अधिकारी एसके गुप्ता, रिटायर्ड एसएलआर आरबी वर्मा, रिटायर्ड ज्वाइंट कलेक्टर ओमप्रकाश सोनी, एडवोकेट संजय शर्मा, वरिष्ठ अध्यापक आरबी पटेल, प्रधानाध्यापक पवन बिरथरे, केएन सोमन, विपिन अवस्थी, अंजू अवस्थी, आशा असाटी, नीलम पांडे भी शामिल होंगे। राज्य आनंद संस्थान के स्टेट कोऑर्डिनेटर हिमांशु भारत और मास्टर ट्रेनर लखनलाल असाटी ने रविवार को गांधी आश्रम और प्रजापिता ब्रह्मकुमारी आश्रम पहुंचकर मंगल ग्राम की अवधारणा पर चर्चा की और सभी के सहयोग का आवाहन किया। प्रत्येक ग्राम पंचायत में सुबह 11 बजे अल्पविराम से मंगल ग्राम कार्यक्रम की शुरुआत होगी। 3 बजे गांव में मंगल संपर्क किया जाएगा और शाम 6 बजे से मंगल सभा होगी। दूसरे दिन सुबह 7 बजे से आत्मा पोषण का सत्र आयोजित होगा। पूरी टीम 10 बजे दूसरे गांव के लिए प्रस्थान कर जाएगी और वहां फिर 11 बजे से यही कार्यक्रम दोहराया जाएगा।      


फोटो :-

   

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1