• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है

जनसहयोग से मिला“’दिव्याँग”’ को वाकर्

प्रेषक का नाम :- विष्णु कुमार सिंगौर मंडल संयोजक जनजातीय कार्य विभाग/आनंदम् सहयोगी मंड़ला
स्‍थल :- Mandla
31 Mar, 2018

जनसहयोग से मिला“’दिव्याँग”’ को वाकर् दिव्याँग “नीरज रावत” जो हाथों,पैरों के सहारे चलता है। घूमने -फिरने के लिये ट्राइसाईकिल मिल चुकी है। लेकिन अन्दर -बाहर चलना हो तो हाथ -पैर के सहारे घिसटता है उसके छिले हुये घुटने ,दिव्याँग की पीड़ा के गवाही देते हैं। वाकर के सहारे चलनें में समर्थ है। समस्या वाकर की है। इसी उद्देश्य से ,आनंदम ( दुआओं का मंड़ला ) में ही स्वेच्छिक रूप से 10/- दान करते हैं तो 50 लोगों के द्वारा दी गयी सहायता से “दिव्याँग “ को वाकर उपलब्ध कराये जाने की योजना बनाई गयी। श्रीमति हेमंतिका शुक्ला जिला पुरातत्व अधिकारी-100, श्री शरद नामदेव बी.आर.सी.कार्यालय मोहगाँव -20, श्री एस.एस.भदौरिया रेशम विभाग -20, श्री अनूप वासल और उनके मित्रों का सहयोग 650/- ,श्री विष्णु कुमार सिंगौर मंड़ल संयोजक जनजातीय कार्यविभाग-50 से सहयोग प्राप्त होने पर फोल्डिंग वाला वाकर दिव्याँग नीरज रावत को उपलब्ध हो गया है। दिव्याँग नीरज रावत ने वाकर प्राप्त होने के बाद आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला में चलने का अभ्यास किया और कहा अब ट्राईसाईकिल तक आने-जाने में घिसटना नहीं पड़ेगा । साथ जिले में आनंदम् ( दुआओं का घर ) जैसा संस्थान प्रारंभ करने के लिये म.प्र.शासन, माननीय मुख्यमंत्री महोदय,राज्य आनंद संस्थान भोपाल,जिला प्राशासन मंड़ला को धन्यवाद।


फोटो :-

      

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1


वीडियो :-

Video - 1