आनंद उत्सव अंतर्गत आनंदकों ने सिद्ध किया औरों को खुशियां बांटने में किसी मूल्यवान साधन या धन की आवश्यकता नही होती बस आपके अंदर परोपकारी भाव होने चाहिए।

प्रेषक का नाम :- श्री विजय मेवाड़ा आनंदम सहयोगी
स्‍थल :- Indore
22 Jan, 2018

आनंद उत्सव अंतर्गत हमारे इंदौर जिले के आनंदक और आनंद क्लब गरीब बस्तियों और अपने कार्यालयों में अपने अधीनस्थों के साथ आनंद उत्सव मनाते श्री राधेश्याम साबू जी, श्री विजय साल्विया जी, आनंदकों ने सिद्ध के दिया की किसी को आनंद और खुशी देने के लिए किसी प्रकार के साधन ओर पैसों की आवश्यकता नही होती।आनंद उत्सव अंतर्गत आनंदकों ने सिद्ध किया औरों को खुशियां बांटने में किसी मूल्यवान साधन या धन की आवश्यकता नही होती बस आपके अंदर परोपकारी भाव होने चाहिए।


फोटो :-

      

वीडियो :-

Video - 1
Video - 2