आनंद उत्‍सव 2020 फोटो एवं वीडियो प्रतियोगिता परिणाम        List of Eligible Candidates from previous recruitment advertisement        List of Non-Eligible Candidates from previous recruitment advertisement       • ऑनलाइन कौर्स : ए लाइफ ऑफ़ हैप्पीनेस एंड फुलफिल्मेंट

दया,सहयोग,त्याग और आनंद की प्रेरणा के लिये आनंदम् बाल सभा कक्ष की स्थापना।

प्रेषक का नाम :- विष्णु कुमार सिंगौर मंडल संयोजक जनजातीय कार्य विभाग/आनंदम् सहयोगी मंड़ला
स्‍थल :- Mandla
28 Dec, 2017

दया,सहयोग,त्याग और आनंद की प्रेरणा के लिये आनंदम् बाल सभा कक्ष की स्थापना। दिनाँक 04/12/2017 को कलेक्ट्रैट परिसर में नेकी की दीवार की परिकल्पना को आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला के नाम से प्रारंभ किया है। और तब से लेकर आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला म.प्र.शासन आनंद विभाग की गतिविधियों के लिये प्रचार/प्रसार और लोगों के लिये प्रेरणा स्रोत बना हुआ है। श्री रोहणी प्रसाद शुक्ला प्रधानाध्यापक के पद पर बालक मा.शा. बिछिया में कार्यरत है। प्रारंभ से ही रोहणी प्रसाद शुक्ला म.प्र.शासन द्वारा शुरू किये गये आनंद विभाग और इस विभाग द्वारा संचालित हो रहे कार्यक्रम/गतिविधियों से प्रभावित हुये। और इसी प्रभाव के कारण आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला में आना एवं कार्यक्रम/गतिविधियों को पूछते और समझने का प्रयास भी करते हैं।आनंदम् ( दुआओं का घर ) में ही मैनें ( विष्णु कुमार सिंगौर मंड़ल संयोजक जनजातीय कार्य विभाग/ आनंदम् सहयोगी)श्री रोहणी प्रसाद शुक्ला प्रधानाध्यापक जी को म.प्र.राज्य आनंद संस्थान भोपाल के निर्देशन में होने वाले विभागीय गतिविधियों आनंदम् स्थल/अल्पविराम/आनंद उत्सव/आनंद सभा के विषय में जानकारी दी और इनके महत्व/उपयोग के संबध में समझाया। परिणाम स्वरूप श्री रोहणी प्रसाद शुक्ला जी ने अपने सहयोगी शिक्षकों के साथ आनंदम बाल सभा कक्ष बनाकर कहानी/ नाटक/गीत/ के माध्यम से ज्ञान /शिक्षा/दया/प्रेम/सहयोग/त्याग की भावना को शाला के विद्यार्थीयों के मन में विकसित करने का कार्य प्रारंभ कर दिया है। यह कार्य शैक्षणिक कार्य के साथ—साथ कर रहे हैं गतिवधि संचालित करने के लिये शाला भवन में ही आनंदम बाल सभा कक्ष बनाया गया है जहाँ पर समस्त विद्यार्थीयों/शिक्षक एकत्रित होकर इस तरह की रोचक और ज्ञान वर्धक गतविधियां करते है।। मजे की बात यह है कि क्लब के सभी सदस्य यह कार्य आनंद के साथ करते है म.प्र.शासन और म.प्र.राज्य आनंद संस्थान भोपाल /जिला प्रसाशन को धन्यवाद भी देते हैं


फोटो :-