• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है, आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 नवम्बर 2018 |

म.प्र. स्थापना दिवस पर आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला को सजाया तो मिला सुख और आनंद

प्रेषक का नाम :- विष्णु कुमार सिंगौर मंडल संयोजक अदिवासी विकास/आनंदम् सहयोगी मंड़ला
स्‍थल :- Mandla
06 Nov, 2017

म.प्र. स्थापना दिवस पर आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला को सजाया तो मिला सुख और आनंद एक नवंबर को मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर आनंदम् ( दुआओं का घर ) मंड़ला में सुबह साफ- सफाई किया। साफ सफाई के बाद प्रत्येक सामग्री को नियत स्थान पर रखा गया। पेंट-शर्टस को बाँये तरफ के स्टैंड में लगी खूंटियों में लटकाया गया। सामने ब्लाउज,दाँये तरफ बच्चों के कपड़े, लड़कियों के कपड़े साड़ियों सलवार -कुर्ता रखे गये हैं। जीरो साइज के कपड़े,मोजे,जेन्टस,लेडीज अंडर वीयर्स के अलग-अलग बाक्स बनाकर उनमें रखे गये.हैं वहीं बीच में हेगंर के द्वारा लड़कियों के लिये सलवार कुर्ता ऐसे लटकाए जैसे किसी दुकान लगायी गयी है। वहीं पुस्तकों को अलग-अलग अलमारीयों में रखी गयी हैं एक अलमारी में धार्मिक पुस्तकें दूसरी अलमारी में स्कूल की पाठ्य् पुस्तकें रखी गयीं। रात्रि के समय शोभा के लिये आनंदम् के अंदर बाहर मर्करी के साथ -साथ अंदर लालटेन के अंदर छोटे-छोटे एल.ई.डी.बल्व दर्जनों लगाकर आनंदम् स्थल को सजाया गया है जिससे रात्रि के समय लोग दुआओं का घर में बच्चे/परिवार के साथ घूमने आते हैं दुआओं का घर के सामने लगे बैरीकेटर्स में देवी-देवताओं के फोटो और साफ-सफाई/सामानों को व्यवस्थित रखने ,धूम्रपान नहीं करने के सबंध में निर्देशों की तख्ती के साथ आनंद क्लबों के बैनर लगाये गये हैं। जब आनंदम् (दुआओं का घर) आने वाले व्यक्तियों अवश्यक्ता की वस्तुऐं मिलती है और वह प्रशन्न होकर धन्यवाद देता है तो हृदय आनंद/ उत्साह से भर जाता है


फोटो :-