• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है, आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 नवम्बर 2018 |

उज्जैन नगर निगम में २०,२१ एवं २२ दिसम्बर २०१७ (तीन दिवसीय) आनंद उत्सव की तैयारी एवं अल्पविराम पर कार्यशाल सम्पन

प्रेषक का नाम :- शैलेन्द्र सिंह डाबी उज्जैन जिला आनंद मास्टर ट्रेनर (Shailendta Singh Dabi, Principal Scientist)
स्‍थल :- Ujjain
26 Dec, 2017

उज्जैन नगर निगम में दिनाक २०,२१ एवं २२ दिसम्बर २०१७ को नगर निगम के अधिकारी कर्मचारियों के लिए अल्पविराम कार्यशाला और आनंद उत्स्व की तैयारी पर नगर निगम के सभी जोन के अधिकारी कर्मचारियों की परिचर्चा कार्यशाला आयोजित कि गई ! इस तीन दिवसीय अल्पविराम कार्यशाला में नगर निगम मुख्यालय एवं ६ जोन के चुनिंदा अधिकारी कर्मचारियों ने भाग लिया! दिनाक २० दिसम्बर २०१७ को अल्पविराम कार्यशाला के प्रथम दिन अल्पविराम कार्यशाला की शुरुआत मध्य प्रदेश के आनंद विभाग, इसका उदेश्य और उज्जैन जिला आनंद विभाग और जिले की आनंद टीम के परिचय श्री परमानंद डाबरे द्वारा प्रदान करने से किया गया! तीन दिवशीय कार्यशाला में जिले के तीनो आनंद मास्टर ट्रेनर श्री शैलेन्द्र सिंह डाबी, जिला मास्टर ट्रेनर एवं प्रधान वैज्ञानिक, श्री शैलेन्द्र व्यास (स्वामी मुश्कराके) प्रधानाचार्य एवं श्री राजेंद्र गुप्त, अधीक्षक वेदशाल ने आनंद, ख़ुशी, आनंद उत्सव एवं अल्पविराम की जानकारी देकर कई प्रकार से और अनूठे प्रयोग कराकर अल्पविराम कराया गया! प्रथम सेशन में अधिकारी कर्मचारी का व्वहार और कार्य करने की सामान्य गतिविधियों के बारे में चर्चा की गई ! अधिकारी कर्मचारी और कार्यालयीन टीम के नकारात्मक और सकारात्मक रवये और मानवीय और आपसी व्वहार का कार्यालय के कामो में पड़ने वाला प्रभाव को बहुत ही रोचकता से बताया ! गिलास पॉट से उन आपसी व्वहार को बहुत ही सरल तरिके से समझाया गया ! सकारात्मक एवं सहयोगतं व्वहार किस तरह कार्यालय का माहौल हमेशा खुशनुमा बनाये रखता है इसको रोचक तरिके से बताया गया! कार्यक्रम के दूसरे दिवस में रोचक खेलो से अल्पविराम और अल्पविराम से प्राप्त प्रेरणा और ऊर्जा का जीवन में खुश रहने के लिए कैसे किया जाये इसको बहुत अच्छे से समझया गया ! हम अपने आनंद के स्तर को कैसे माप सकते है इसको ग्लासस्पोट के प्रयोग से श्री गुप्त जी ने विस्तार से बताते हुए मार्मिक कहानी के माध्यम से समझते हुए कहा की हम जीवन में आनंद के किस स्तर पर है इसका स्वयं आत्म विश्लेषण इस ग्लासस्पोट प्रयोग से जान सकते है ! तीसरे दिवस में कार्यशाला का शुभारम्भ स्वामी मुस्कुराके श्री शैलेन्द्र व्यास जी द्वारा आपने रोचक और चिरपरिचित अंदाज में सभी प्रतिभागियों क्र गुदगुदाते हुए शुरू की गई स्वामी मुस्कुराके के रोचक और प्रेरणादायक उध्बोधन से सभी मुश्कुराते और खिलखिलाते हुए आनंद प्राप्त कर जीवन की प्रेरणा धायक और सकारत्मकता के बढ़ाने की कई सरल और उपयोगी तकनीकों को सहज भाव से समझाया ! श्री शैलेन्द्र सिंह डाबी ने तीसरे दिन प्रदेश में जनवरी में मनाये जाने वाले आनंद उत्स्व और इसमें आयोजित होने वाली और आयोजित किये जाने वाली गतिविधियों को विस्तार से बताया ! इस बार आनंद मंत्रालय द्वारा ग्रामीण और शहरीय दोनों जगह आनंद उत्सव आयोजित करने और इसकी रुपरेखा बनाने की सम्पूर्ण जानकारी सभी प्रतिभागियों को प्रदान की गई ! उज्जैन नगर निगम के द्वारा कार्यशाला में जानकारी दी गई की नगर निगम ने आनंद उत्सव हेतु नगर निगम सीईओ ने श्री सुबोध जैन को आनंद उत्सव का नोडल नियुक्त कर दिया है साथ ही समिति भी गठित कर ली गई है ! और जल्द ही समिति की बैठक कर बाकि रुपरेखा तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है !

इस प्रकार उज्जैन नगर निगम में दिनाक २०, २१ एवं २२ दिसम्बर २०१७ को नगर निगम के अधिकारी कर्मचारियों के लिए अल्पविराम कार्यशाला और आनंद उत्सव की तैयारी पर कार्यशाल सम्पन की गई! श्री सुबोध जैन एवं श्री मुकेश जी ने सभी मास्टर टैनर्स श्री शैलेन्द्र सिंह डाबी, श्री शैलेन्द्र व्यास (स्वामी मुश्कराके) एवं श्री राजेंद्र गुप्त जी आभार प्रदर्शित कर सभी का बहुत बहुत साधुवाद दिया ! साथ ही उज्जैन नगर निगम को अल्पविराम कार्यशाला के लिए चुना और तीन दिवशीय आयोजन का अवसर प्रदान करने हेतु जिले के उज्जैन जिला आनंद विभाग के नोडल अधिकारी श्री संदीप जी. आर., सीईओ, जिला पंचायत, जिला कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे, एवं श्री परमानंद डाबरे शाखा प्रभारी, जिला आनंद विभाग उज्जैन को धन्यवाद प्रदान किया!


फोटो :-

   

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1