• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है, आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 नवम्बर 2018 |

छतरपुर स्वयं के साथ अपना परिचय करना ही है अल्पविराम

प्रेषक का नाम :- आनदंम सहयोगी लखनलाल असाटी
स्‍थल :- Chhatarpur
07 Dec, 2017

स्वयं के साथ अपना परिचय करना ही है अल्पविराम
छतरपुर। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए अल्पविराम कार्यक्रम का विशेष प्रशिक्षण सत्र राज्य आनंद संस्थान भोपाल के हिमांशु भारत एवं जितेश श्रीवास्तव की उपस्थिति में संपन्न हुआ। इसमें आनदंम सहयोगी लखनलाल असाटी, जिला अपूर्ती अधिकारी बीके सिंह सहित, खाद्य, डूडा, कोषालय एवं पेंशन विभाग के अधिकारी कर्मचारी शामिल हुए।
हिमांशु भारत ने अल्पविराम के बारे में बताया कि यह शांत समय में आत्मा को सुनने का अभ्यास है। शांत समय में ही व्यक्ति खुद को पहचान सकता है। व्यक्ति संसार के वाहन तो चला लेता है पर अपने शरीर और जीवन रूपी वाहन को कैसे चलाना है। इस तरफ उसका कम ध्यान होता है। अल्पविराम में रामगुलाम द्विवेदी, सीमा कौशल, बीके सिंह आदि ने अपने-अपने जीवन के अनुभवों को सुनाया। सभी ने स्वीकार किया कि जीवन में जब कठिन समय आता है तो प्रेरणा स्वयं से ही मिलती है। और उसी से हमें ताकत मिलती है। आज व्यक्ति बाहर से भले ही ताकतवर हो पर अंदर से वह कमजोर है। अल्पविराम व्यक्ति को अंदर से मजबूत बनाता है।


फोटो :-