*अल्प विराम तनाव कम करने एवं शान्ति में सहायक-कलेक्टर*

प्रेषक का नाम :- लखन लाल असाटी आनंदम सहयोगी छतरपुर
स्‍थल :- Chhatarpur

*अल्प विराम तनाव कम करने एवं शान्ति में सहायक*
          छतरपुर,कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में
उपस्थित अधिकारियों ने आनंद विभाग द्वारा समय-समय पर आयोजित किए जा रहे
अल्प विराम कार्यक्रम के बारे में विचार व्यक्त कर अपने अनुभव साझा किए।
एसडीएम दिव्या अवस्थी ने कहा कि इसके माध्यम से तनावमुक्त रहने में मदद
मिली है। उद्योग विभाग के महाप्रबंधक आदित्य चौबे ने कहा कि अल्प विराम
कार्यक्रम से सकारात्मक सोच विकसित हुई है एवं फाइलों के त्वरित निराकरण
में मदद भी मिली है। एनआईसी के जिला सूचना एवं विज्ञान अधिकारी
धर्मेन्द्र विश्वकर्मा ने बताया कि इस कार्यक्रम के माध्यम से सामाजिक
सेवा का भाव जागृत हुआ है। ईई पीएचई एस.के. जैन ने कहा कि इसके माध्यम से
अपार आनंद की अनुभूति होती है। ईई आरईएस श्री बघेल ने अल्प विराम
कार्यक्रम की सकारात्मकता के बारे में बताया। एसडीएम डी.पी. द्विवेदी एवं
अन्य अधिकारियों ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किए। अंत में
कलेक्टर रमेश भण्डारी ने कहा कि अल्प विराम कार्यक्रम तनाव कम करने एवं
शान्ति उत्पन्न करने में सहायक सिद्ध हुआ है।
        आनंदम सहयोगी लखनलाल असाटी ने बताया कि अब नेकी की दीवार आनंदम
के नाम से जानी जाएगी। वर्तमान में जनपद पंचायत छतरपुर के परिसर में
संचालित आनंदम को मेला ग्राउण्ड स्थित दीनदयाल रसोई परिसर में शिफ्ट किया
गया है। दानदाता आनंदम केंद्र में गरीब एवं जरूरतमंद व्यक्तियों की मदद
के लिए आवश्यक सामग्री का यहां दान कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि
सेवानिवृत्त सीएमओ डी.डी. तिवारी की अध्यक्षता में आनंदम आनंद क्लब का
गठन किया गया है। समर्पण क्लब द्वारा शहर के निकट ग्राम पंचायत खोंप के
बडेरापुरवा में अपना घर नाम से निर्माण कराया जा रहा है। अपना घर के लिए
समर्पण क्लब के अध्यक्ष जय नारायण अग्रवाल द्वारा अपनी 2 एकड़ भूमि दान की गई है।
यहां पर जिला कलेक्टर द्वारा जनभागीदारी से सड़क निर्माण कराने हेतु भी
कहा गया है। आनंदम सहयोगी श्री असाटी ने जानकारी दी कि डाक्टर आनंद क्लब
का गठन भी किया जा रहा है। क्लब के डा. सुभाष चौबे द्वारा दिव्यांगजनों,
कैंसर रोगी एवं सेना व अर्धसैनिक बल के कर्मियों एवं उनके परिवार को आवश्यक जांच एवं
उपचार निःशु ल्क करने की घोषणा की गई है। बैठक में उपस्थित अधिकारियों को
जिला कलेक्टर द्वारा निर्देषित किया गया है कि वे अपने अधीनस्थ
कार्यालयों में भी नियमित रूप से अल्प विराम कार्यक्रम कराना सुनिष्चित
करें। बैठक के दौरान आनंद विभाग द्वारा उपलब्ध कराए गए कैलेण्डर भी
वितरित किए गए। कैलेण्डर की थीम अपनी दैनिक दिनचर्या एवं व्यस्त कामकाज
से समय निकालकर कर्त्तव्यस्थल के साथ-साथ घर में भी आनंद का अनुभव करना
है।




डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1