आनंदक अल्पविराम

प्रेषक का नाम :- अरविन्द शर्मा
स्‍थल :- Indore

राज्य आनंद संस्थान के निर्देषानुसार सकारात्मक सोच वाला इन्सान एक अच्छा कर्मचारी सिद्ध हो सकता है। यह मान्यता है कि हर व्यक्ति को उसका अन्तर्मन यह बताता है कि क्या सही है, बस मुद्दा यह है कि वह अन्तर्मन की आवाज सुन सके। अल्पविराम कार्यक्रम एक ऐसी संक्रिया है जिसके माध्यम से व्यक्ति अपने अन्तर्मन की आवाज सुनकर अपने जीवन में सकारात्मक सोच विकसित करता है। जिला कार्यालय इंदौर में दिनांक 21.07.2017 दोपहर 03 से 04.30 बजे तक जिला पंचायत के सभा कक्ष में अपर कलेक्टर एवम नोडल ऑफिसर श्रीमती कीर्ति खुरासिया मेडम, समन्वयक आनंद विभाग श्री अरविंद शर्मा एवम जिला परियोजना समन्वयक श्री अक्षय सिंह राठौर सहित 40 अधिकारियों कर्मचारियों जिसमे कलेक्ट्रेट ओर शिक्षा विभाग के अधिकारी कर्मचारियों को ”अल्पविराम“ अर्थात अन्तर्मन की आवाज सुनने हेतु प्रषिक्षण आयोजित किया गया। प्रषिक्षण आनंदम सहयोगी श्री विजय मेवाड़ा एवम श्री प्रफुल्ल शर्मा द्वारा आनंदम अल्पविराम संक्रिया का अभ्यास कराया। आनंद कैलेंडर की थीम अनुसार उक्त अल्प विराम में आपसी संबंधों पर केंद्रित था जिसमे आनंदम सहयोगियों द्वारा प्रश्नावली द्वारा - आपके घर, परिवार, समाज, या कार्यालय में जिस किसी से भी आपके संबंध अच्छे नही है उन्हें मधुर करने हेतु आप स्वयं में क्या परिवर्तन ओर क्या प्रयास करेंगे। प्रतिभागियों ने जिनके लिए उनके मन मे द्वेष की भावना या जिन्हें वे पर्याप्त समय न दे पाए थे उन लोगो को उदारतापूर्वक क्षमा पत्र लिखे। कार्यक्रम में सकारात्मक सोच व प्रवृत्ति से सम्बन्धित लघु फिल्मों का प्रदर्षन किया गया, व प्रष्नावली के अनुसार सभी प्रतिभागियों से उनके द्वारा गत् 10 दिवसों में किए गए अच्छे कार्यो का आदान-प्रदान कराया गया जिससे छोटे-छोटे कार्यो से कर्मचारी एक दूसरे को प्रेरित कर सके। आनंदम सह्योगोयों द्वारा प्रतिभागियों से आग्रह किया कि वे प्रतिदिन 20 मिनिट का समय निकाल कर किसी एकांत स्थान पर बैठकर अल्पविराम क्रिया का अभ्यास करें। अल्पविराम पश्चात सभी प्रतिभागियों को आनंद विभाग द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रम ”आनंद क्लब“ के गठन के संबंध में अवगत कराया । सभी प्रतिभागियों ने आनंद क्लब के माध्यम से आनंद विभाग से जुड़ने हेतु स्वेच्छा व स्वप्रेरणा से अपने सहमति दी।


फोटो :-

      

डाक्‍यूमेंट :-

Document - 1