• आनंद शिविर प्रशिक्षण तथा अल्पविराम कार्यक्रम के रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए क्लिक करें          • आनंद प्रोजेक्ट एवं फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित है, आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2018 तक बढ़ा दी गई है |

मासूम विजय की दुख भरी कहानी

प्रेषक का नाम :- Vijay goyal
स्‍थल :- Shivpuri
13 Oct, 2017

एक घटना के बारे मैं विभाग को अवगत कराना चाहता हूँ जिससे मुझे आनद की अनुभूति हुई है उसका बखान करना संभव नही कुछ समय पहले की बात कोलारस शिवपुरी के छः किलोमीटर दूर एक गांव का नाम है संकरकरगड उस गांव मे विजय आदिवासी नाम का एक 13 वर्सिय बालक था उसको बॉन t.v इस बीमारी के कारण उसकी हड्डिया गाल गई थी विजय बिस्तर से चिपक गया था उसमे कीड़े पड़ गए थे जब मुझे उस मासूम विजय के बारे मे पता चला तो मे उससे मिलने उसके घर गया और विजय से मिला उसको देख कर मेरे आंसू आखो से रुक नही रहे थे क्यो की उसकी हालत बहुत खराब थी उसके बाद मुझे लगा इस बच्चे को बचना चाहिए क्यो की उसकी आर्थिक स्थिति ठीक नही थी उस बचे से मैन वादा कर दिया कि मैं तुझको बचा लूंगा मैन उसी दिन S.D.M साहब को उस घटना जे बारे अवगत कराया प्रशासन और जनप्रतिनिधि के सहयोग से विजय आज स्वस्थ्य है। मुझे सबसे ज्यादा आनंद इस घटना से मिला कि मैं किसी के कुछ काम आ सका


फोटो :-